Sharing is caring!

चेतक महाराणा प्रताप के घोड़े का नाम था। लेकिन इस घोड़े का नाम हमें इतिहासिक सूत्रों में नही दिखाई देता। Chetak Horse. महाराणा प्रताप के घोडा “चेतक” की कहानी – Chetak Horse. कहा जाता है की चेतक बहुत ही समझदार और वीर घोड़ा था। हल्दीघाटी में अकबर के साथ युद्ध के समय चेतक महाराणा प्रताप का बड़ा सहयोगी था। उस समय चेतक ने अपनी जान दांव पर लगाकर 25 फुट गहरे दरिया से कूदकर महाराणा प्रताप की रक्षा की थी|

पूरी जानकारी के लिए देखे यह विडियो

 

कैसे मिले चेतक और महाराणा प्रताप ?

महाराणा प्रताप के सबसे प्रिय और प्रसिद्ध नीलवर्ण irani मूल के घोड़े का नाम चेतक था। चेतक अश्व गुजरातमे चोटीलाके पास भीमोरा गांवका था. खोड गांवके दंती शाखाके चारणने भीमोराके काठी राजपुतके पासशे चेतक अश्व खरीदाथा. चारण व्यापारी काठीयावाडी नस्ल के तीन घोडे चेतक,त्राटक और अटक लेकर मारवाड आया।अटक परीक्षण में काम आ गया। त्राटक महाराणा प्रताप ने उनके छोटे भाई शक्ती सिंह को दे दिया और चेतक को स्वयं रख लिया।

Sharing is caring!