Sharing is caring!

हमारे भारत देश में दिल दहलाने वाले मामले रोज़ होते है.आज की घटना कुछ ऐसी हे है .आज के इस कलयुगी दौर में बच्चें अपने ही गली और मोहल्ले में सेफ नही हैं. कुछ ऐसा ही दिल देहला देने वाला हाल ही में हमारे सामने आया है. जहाँ, ग्वालियर के शिवपुरी के कोतवाली अंतर्गत जनपद कार्यालय के पास ब्लॉक कॉलोनी के एक घर के बाहर साइकिल चला रही 10 वर्षीय बच्ची आचानक गायब हो गई.जिसके बाद बच्ची के परिवार ने नजदीकी थाणे में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज़ करवा दी. पुलिस द्वारा जांच पड़ताल करने के लगभग तीन घंटे बाद वह बच्ची शहर के रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर पाई गई. पीड़ित बच्ची ने बताया कि जब वह साइकिल चला रही थी तो पीछे से उसको किसी ने जोर से जकड़ लिया. फिलहाल बच्ची सही सलामत घर पहुंचा दी गई है और पुलिस ने इस मामले में चुप्पी साध ली है. चलिए जानते हैं आखिर ये पूरा मामला क्या था.

पिता और पुलिस के लोग उसे लेने के लिए स्टेशन पहुंचे. बालिका तो मिल गई, लेकिन उसकी साइकिल अभी तक नहीं मिल सकी. जब मैं अपने घर के बाहर साइकिल चला रही थी, तभी इमली के पेड़ के पास मुझे पीछे से किसी ने जोर से पकड़ लिया. वृति बोली कि उसके बाद मुझे कुछ पता नहीं कि क्या हुआ. वो बोली कि मुझे जब कुछ समझ आया तो मैं शिवपुरी रेलवे स्टेशन पर आखिर की तरफ बैठी थी.जब पुलिस ने बच्ची से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह घर के बाहर साइकिल चला रही थी तभी अचानक इमली के पेड़ के पास पहुंचते ही उसको पीछे से किसी ने जोर से जकड़ लिया. बच्ची ने बताया कि उसके बाद उसको कुछ होश नहीं और ना ही कुछ याद था. परंतु जब उसकी आंखें खुली तो वह शिवपुरी रेलवे स्टेशन पर बैठी हुई थी. वहां वृति ने एक ऑटो चालक से कहा कि वह उसके पिता से उसकी बात करवा दे. जिसके बाद वह उस ऑटो चालक की मदद से परिवार तक वापिस पहुंच पाई.

 

Sharing is caring!