Sharing is caring!

ऐसी बहुत सी रोजाना की चीजें हैं जिन्हें हम नजरअंदाज कर देते हैं, लेकिन वह हमारे लिए बेहद खतरनाक हो सकती हैं. तो चलिए जानते हैं कि आखिर कौन सी हैं वह आदतें, जिनका प्रभाव हमारे जीवन पर गहरा पड़ सकता है–

धुम्रपान पड़ेगा भारी!

टीवी विज्ञापन से लेकर गली कूचों तक सरकार यह बताती फिरती है कि धूम्रपान नहीं करना चाहिए. इसके बावजूद भी लोग निरंतर इसकी ओर ही जाते हैं. धूम्रपान फेफड़े और गले जैसे कई तरह के कैंसर का कारण माना जाता है.

धूम्रपान करने वाले 30 प्रतिशत लोगों की मौत कैंसर के कारण होती है!

धूम्रपान करते हुए अक्सर लोग खुद पर ध्यान नहीं देते और बहुत ज्यादा मात्रा में इसे पीते हैं

टीवी का मजा कहीं बन न जाए सजा!

बचपन में आपको बड़ों ने शायद बोला होगा कि ज्यादा टीवी देखने से आँखें खराब हो जाती हैं. पहले के समय में बात अलग थी पर अब ज्यादा टीवी देखने के कारण आपकी आँखें ही नहीं आपकी जान को भी खतरा है. माना जाता है कि जो लोग चार घंटे लगातार टीवी देखते हैं उनके 80 प्रतिशत चांस होते हैं दिल की बीमारी से मरने के.

क्योंकि टीवी देखते हुए हम बड़े ही आराम से बैठते हैं और शरीर को जरा भी नहीं हिलाते इसलिए वहीं हमारी परेशानी बन जाता है. माना जाता है कि एक घंटे तक टीवी देखने से भी हमारी जिंदगी कम होने लगाती है.

नाखून नहीं हैं खाने की चीज!

यह टाइम पास तो कर देता है, लेकिन यह मौत का कारण भी बन सकता है. आगर आपको इस बात पर यकीन नहीं तो 40 साल के जॉन गार्डनर के बारे में सुन लीजिए.

ब्रिटेन के रहने वाले जॉन को नाखून चाबाने की बहुत आदत थी. उनकी इस आदत की वजह से ही उनकी मौत भी हो गई. यूँ तो जॉन की मौत दिल के दौरे की वजह से हुई, लेकिन वह दिल का दौरा उन्हें नाखून चबाने के कारण ही आया. माना जाता है कि नाखून चबाने के कारण जॉन की ऊँगली पर घाव हो गया. उस घाव पर थोड़े वक़्त बाद इन्फेक्शन हो गया और जो अंत तक आते-आते जॉन की मौत का कारण बन गया.

नींद का हिसाब रखना है जरूरी

माना जाता है कि एक आम इंसान के लिए 6 घंटे की नींद जरूरी होती है. आज कल की इस भागती जिंदगी में लोगों के पास इतनी चीजें हैं करने के लिए कि पूरी नींद भी नहीं ले पाते.

आंकड़ों की मानी जाए तो 12 प्रतिशत लोग जो 6 घंटे से कम सोते हैं वह बाकियों के मुकाबले 25 साल कम जीते हैं. वहीं दूसरी ओर ज्यादा सोना भी आपके लिए अच्छा नहीं माना जाता है. कहते हैं कि अगर आप 9 घंटे से ज्यादा सोते हैं तो वह भी आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है

‘जाम’ यूँ ही नहीं है ‘बदनाम’

कॉलेज के बैचलर्स हों या फिर ऑफिस के कर्मचारी, कई लोग इस शराब के जाल में फंसते जा रहे हैं.

माना जाता है कि शराब की आदत के कारण न सिर्फ हमारे शरीर बल्कि हमारी निजी जिंदगी पर भी बड़ा असर पड़ता है. शराब हमारी सोचने की शक्ति पर बड़ा प्रभाव डालती है जिसके कारण लोग कई बार लड़ाई झगड़े तक में फंस जाते हैं.

यह बहुत सी बीमारियों को भी न्योता देती है. शराब एक समय के बाद लत बन जाया करती है. यह उसके बाद मजे का साधन नहीं बल्कि एक दैनिक जरूरत का रूप ले लेती है. इसे पूरा करने के चक्कर में लोग खुद अपना शरीर खराब करने में लगे रहते हैं.

Sharing is caring!