Sharing is caring!

भले स्वभाव की बात की जाए या फिर कपड़े पहनने की, दोनों का तरीका और दोनों की चॉइस अलग होती है. एक रिसर्च के अनुसार अधिकतर लड़कों का ये मानना है कि लडकियाँ और महलाएं जितनी सीधी दिखती हैं, उतनी ही टेडी होती हैं. लड़कियों को समझ पाना आसान बात नहीं है. जिन लड़कों की गर्लफ्रेंडस होती हैं, वह हमेशा इस कोशिश में लगे रहते हैं कि लड़कियों को कैसे खुश रख सके?

क्यों कि हर लड़की की सोच अलग होती है. और उस लड़की को खुश करने के लिए उसकी पसंद और नापसंद जानना उनका मुख्य लक्ष्य होता है. किसी लड़की को मेकअप का सामान पसंद आता है तो किसी को नये नये कपड़ों का क्रेज होता है. इसके इलावा हर लड़की की बात करने का तरीका भी बिलकुल हटके होता है. आज के इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसी बातें बतायेंगे, जिन्हें पढ़ कर आप समझ जायेंगे कि आपकी गर्लफ्रेंड आपसे क्या चाहती है और उन बातों के लिए वह आपको कौन कौन से संकेत देती है.

लड़कियों के देती हैं लडको को ये ख़ास संकेत…

वैसे तो बातें करने से हम एक दुसरे को और अधिक से समझने लगते हैं. लेकिन, ओटावा विश्वविद्यालय के एडम डेविस की एक रिसर्च के अनुसार लडकियाँ ज्यादातर लड़कों को अपना दीवाना बनाने के लिए गपशप करती हैं. कनाडा में 17 से 30 साल तक की लड़कियों पर की गयी एक रिसर्च के अनुसार इस बात की पुष्टि की गयी कि लडकियाँ किसी लड़के के सामने जान बुझ कर बातें करने का दिखावा करती हैं. या फिर उन्हें अपनी तरफ खींचने के लिए रोमांटिक इशारे करती हैं. इसके इलावा वह बातों ही बातों में सम्भावित साथी का ध्यान पाने के लिए उन्हें आकर्षित करना चाहती हैं और उनके आगे जानबूझकर रोमांटिक व यौन इच्छाशक्ति भरी बाते करने लगती हैं.

तो दोस्तों लडकियाँ अगर आपके बारे में पहले से काफी कुछ जानने का दिखावा करती हैं, या फिर सच में आपको पहले से समझती हैं तो ये समझिये कि वह आपमें काफी दिलचस्पी रखती है. अब आप ऐसी लड़कियों को चरित्रहीन नहीं कह सकते. क्यों कि ये हर लड़की का साधारन स्वभाव है. तो आप उनके जज्बातों को समझिये, क्यूंकि वह बातों और गपशप के ज़रिये आपके दिल तक का रास्ता धुंडने की कोशिश करती हैं.

लड़कियां गॉसिप में होती हैं टैलेंटेड

इस बात में तो कोई शक नहीं है कि लडकियाँ बहुत बातूनी होती हैं. गपशप के मामले में लडकियाँ किसी को भी पीछे छोड़ सकती हैं. इसके इलावा लड़कियों और औरतों को एक दुसरे की चुगली करना भी बेहद अच्छा लगता है. अक्सर लडकियाँ आपस में बात करते समय जब भी किसी की निंदा या चुगली करती हैं तो अंत में एक ही बात कहती हैं- “छोड़ यार! हमे उससे क्या लेना देना“. भला इनसे कोई पूछे कि बातें तो सारी कर ली अब बचा ही क्या था छोड़ने लायक? बहरहाल, लड़कियों के उल्ट लड़के बहुत कम बात करने वाले होते हैं. लड़कों को शांत रह कर अपना काम करना ज्यादा पसंद आता है. आपको ये जानकार हैरानी होगी कि कईं बार तो लडकियाँ लड़कों को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए भी गपशप करती हैं.

 

Sharing is caring!