Sharing is caring!

पानी की गर्माहट जब शरीर पर लगती है तो मन करता है कि नहाते ही रहो. अक्सर हम सभी सर्दियों में गर्म पानी से नहाने की ही सोचते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपके लिए कितना बेकार है.

यही नहीं, रोज नहाना भी आपके लिए अच्छा नहीं है. आप भी यह सुन कर हैरान हो गए न?

तो चलिए क्यों न जानें… आखिर क्यों हमें यह दोनों चीजें नहीं करनी चाहिए–

:-सफाई नहीं, ‘समाज के डर’ से नहाते हैं लोग!

बोस्टन की एक डर्मेटोलॉजिस्ट रानीला हिर्स्च की मानें तो हम अधिकतर समय इसलिए नहीं नहाते क्योंकि हम गंदे हैं, बल्कि हम इसलिए नहाते हैं क्योंकि हमें समाज का डर होता है. हमारे अंदर यह भावना होती है कि अगर हम नहीं नहाएंगे तो समाज हमें अच्छा नहीं समझेगा!

हाँ अगर आप जिम करते हैं या आपको अधिक पसीना आता है तो आपका रोजाना नहाना बनता है. अगर आप इन सब में से कुछ भी नहीं करते तो आपको पानी से थोड़ी दूरी बनाने की जरूरत है.

:-गर्म पानी बनाता है ‘खाल को रूखा’!

सर्दियों के मौसम में लोगों को जो सबसे बड़ी परेशानी होती है वह है रूखी त्वचा. हर कोई इससे परेशान हो जाता है कि कैसे सुबह-सुबह खाल पूरी तरह सूख जाती है. आप पानी भी बराबर मात्रा में पीते हैं, लेकिन फिर भी वह आपकी खाल तक नहीं पहुँच पाता है.पता है ऐसा क्यों होता है?

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम सर्दियों में गर्म पानी से नहाते हैं. कहते हैं कि हमारी त्वचा खुद पर नमी बनाए रखने के लिए कुछ प्राकृतिक तेल छोड़ती है. जब हम गर्म पानी से नहाते हैं तो हमारी खाल के वह प्राकृतिक तेल खत्म हो जाते हैं. यह भी एक बड़ा कारण है कि हमारी खाल सर्दियों में नहाने के बाद रूखी नजर आती है. इसके साथ ही जब हम नहाते हुए साबुन का इस्तेमाल करते हैं तो वह हमारी खाल को और सुखाता है.

:-कितनी बार नहाना है सही?

अगर आप सोचते हैं कि रोज नहाना आपके लिए जरूरी है तो ऐसा बिलकुल भी नहीं है. माना जाता है कि जब तक आपको सच में जरूरत न हो आपको नहाना नहीं चाहिए. अगर आप ज्यादा गंदगी वाला काम नहीं कर रहे तो आपको हफ्ते में एक, दो या अधिकतम तीन बार ही नहाना चाहिए.

यूँ तो यह आपकी खाल की कटगरी भी निर्धारित करती है कि आपको कितनी बार नहाना चाहिए. अगर आपकी ड्राई स्किन है तो आपको गर्म पानी से दूर रहना चाहिए और हफ्ते में कम ही नहाना चाहिए. वहीं अगर आपकी ऑयली स्किन है तो आप 3-4 बारी हफ्ते में नहा सकते हैं.

:-क्या है सर्दियों में बेस्ट ठंडा पानी या गर्म पानी?

ठंडे पानी से नहाने के अपने ही फायदे हैं. सबसे पहला तो यह है कि यह खाल की नमी बनाए रखता है. ठंडे पानी से नहाने से हमारे शरीर में चुस्ती भी आती है. जी हाँ, भले ही सर्दियों में अपने ऊपर ठंडा पानी डालने में कितनी ही घबराहट क्यों न हो असल में यह हमारी मदद ही करता है.

ठंडा पानी अपने ऊपर डालते ही हम जोर-जोर से सांस लेते हैं, जिसके जरिए हम ज्यादा ऑक्सीजन अंदर लेते हैं. यह ऑक्सीजन ही हमारे शरीर को पूरे दिन अलर्ट रखती है. ठंडा पानी जब शरीर का तापमान गिराता है तो शरीर ज्यादा खून बनाता है. इसके कारण सर्दी जुकाम जैसी चीजों से भी बचा जा सकता है.

:-बदलते वक़्त ने बनाया ज्यादा नहाने का नियम…

कई बार तो लोग ज्यादा सफाई के चक्कर में दिन में तीन बार तक नहा जाते हैं. असल में यह बिलकुल गलत है. हमें अपने नहाने पर नियंत्रण रखना चाहिए. कहते हैं कि हमारी खाल में बहुत से बैक्टीरिया होते हैं. इन बैक्टीरिया में से कुछ तो हमारे लिए खराब होते हैं, लेकिन बहुत से बैक्टीरिया ऐसे होते हैं जो हमारे लिए बहुत अच्छे भी माने जाते हैं. जब हम रोज नहाते हैं तो वह अच्छे बैक्टीरिया को हम अपनी खाल पर पनपने से रोक देते हैं. यही कारण है कि हमारी खाल पर सर्दियों में कई तरह की परेशानी होती है.

अब सोच लीजिये नहाना है या नहीं………..

Sharing is caring!