Sharing is caring!

पद्मावती की रिलीज की राह खुलती नजर आ रही है क्योंकि सेंसर बोर्ड ने यू/ए सर्टिफिकेट देने का फैसला कर लिया है. लेकिन इसके लिए सिर्फ फिल्म का नाम ‘पद्मावती’ से बदलकर ‘पद्मावत’ करना होगा क्योंकि ऐसे करते ही फिल्म हकीकत नहीं रहेगी और यह काल्पनिक कहानी में तब्दील हो जाएगी. जी हां, सूफी कवि मलिक मुहम्मद जायसी ने ‘पद्मावत’ की रचना की थी .संजय लीला भंसाली की दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर स्टारर फिल्म ‘पद्मावत’ भारी विवाद के बाद आखिरकार 25 जनवरी को रिलीज होने वाली है। सेंसर बोर्ड ने फिल्म ‘पद्मावत’ में 5 बदलाव के सुझाव देकर, इसे हरी झंडी दे दी थी। इन खबरों के बीच निर्माता ने विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ में 300 कट लगाए हैं। यहीं नहीं फिल्म में आपको ये भी पता नहीं चलेगा की ‘पद्मावती’ कहां की रानी थीं और अलाउद्दीन खिलजी कहां के बादशाह थे, यानी किरदारों को समझना मुश्किल होगा। खबर है की फिल्‍म से दिल्ली, मेवाड़ और चित्तौड़गढ़ से जुड़े तथ्यों को काट दिया गया है।

फिल्म पद्मावत को बैन करवाने का अनुरोध लेकर मंगलवार को करणी सेना ने उत्तराखंड का रूख किया। करणी सेना के संरक्षक लोकेंद्र सिंह ने बताया उनकी मंगलवार सुबह ही सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से भी मुलाकात हुई है। मुख्यमंत्री रावत ने उनकी बात संवेदनशीलता के साथ सुनी है, अब उन्हें सरकार से सकारात्मक जवाब की उम्मीद है।

करणी सेना नाम बदलने के बाद भी भंसाली की पद्मावत को रिलीज न होने देने की धमकी दी है। राजपूत नेता सुखदेव सिंह गोगामेडी ने कहा है कि केवल नाम बदलने से बदलाव आ जाता है तो पेट्रोल का नाम बदलकर गंगाजल रख देंगे। इसी गंगाजल को छिड़क कर सिनेमाघरों में आग लगा देंगे। कहा, जिन सिनेमाघरों में ‘पद्मावत’ रिलीज होगी वहां आग लगा देंगे। राजस्थान में तो वसुंधरा राजे की सरकार ने फिल्म की रिलीज को बैन कर दिया है।

ranveer singh padmavati youtube

पद्मावत’ के साथ अक्षय कुमार की ‘पैडमैन’ भी 25 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज होगी. वहीं, 26 जनवरी को रिलीज के लिए तैयार सिद्धार्थ मल्होत्रा और मनोज वाजपेयी की ‘अय्यारी’ अब 9 फरवरी को आएगी.

Sharing is caring!