Sharing is caring!

एक वक्त था जब पूर्व श्रीलंकाई क्रिकेटर सनथ जयसूर्या की गिनती दुनिया के सबसे तूफानी बल्लेबाजी में की जाती थी। सनथ जयसूर्या के सामने दुनिया के अच्छे अच्छे गेंदबाजों खौफ खाते थे। जयसूर्या इतने खतरनाक क्रिकेटर हुआ करते थे जो किसी भी बॉलिंग लाइनअप की धज्जियाँ उड़ाने की क्षमता रखते थे। लेकिन, आज उनको लेकर जो खबर आ रही है वो बेहद चौंकाने वाली है। दुनिया भर के गेंजबाजों को अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से डराने वाले जयसूर्या आज बैसाखियों के सहारे चलने को मजबुर हो गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक जयसूर्या इतने लाचार हो गए हैं कि बिना बैसाखी के एक कदम भी नहीं चल सकते हैं।

एक दौर में श्रीलंका के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज रहे सनथ जयसूर्या 400 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी हैं। जयसूर्या की गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों और श्रीलंका के सबसे अनुभवी खिलाड़ी के रुप में होती है। जयसूर्या ने 26 दिसम्बर 1989 को मेलबोर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना वनडे करियर शुरु किया और जल्द ही अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के कारण दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में शुमार हो गए। जयसूर्या में किसी भी तरह की बालिंग लाइनअप की धज्जियाँ उड़ाने की क्षमता थी।

लेकिन, श्रीलंका की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जयसूर्या अब चलने फिरने में पूरी तरह से असमर्थ हो चुके हैं। वो बैसाखियों के सहारे के बिना एक कदम भी नहीं चल सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, जयसूर्या घुटनों की समस्या से जूझ रहे हैं जिसका ऑपरेशन जल्द किया जाना है। आपको बता दें कि क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद जयसूर्या दो बार श्रीलंका क्रिकेट की चयन समिति के चेयरमैन रहे। इस दौरान वो कई तरह के विवादों में फंसे। चेयरमैन रहने के दौरान उन्होंने श्रीलंकाई टीम में कई बदलाव किए जिससे खिलाड़ियों में अपनी जगह पक्की न होने का डर पैदा हो गया।

जयसूर्या पर श्रीलंका क्रिकेट की चयन समिति के चेयरमैन रहने के दौरान खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर असर पड़ा और आज श्रीलंका की टीम मुश्किल दौर से गुजर रही है। गौरतलब है कि साल 2017 में उनकी टीम को दक्षिण अफ्रीका और फिर भारत के हाथों जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा था, जिसकी वजह से ही जयसूर्या ने अपने चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया था। जयसूर्या के घुटनों का ऑपरेशन ऑस्ट्रेलिया में होगा ऐसी खबरे आ रही हैं। जयसूर्या की उम्र 48 वर्ष हो चुकी है और उन्होंने अपनी खराब फार्म के कारण साल 2011 में क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।

Sharing is caring!