Sharing is caring!

रजनीकांत ने नई पॉलिटिकल पार्टी बनाने की घोषणा कर दी है। उन्होंने कुछ समय पहले कहा था कि वे 31 दिसंबर को अपना सियासी प्लान बताएंगे। बता दें कि बस कंडक्टर से सुपरस्टार तक का सफर तय करने वाले रजनीकांत के पास एक्टिंग का अनुभव नहीं था। लेकिन बतौर बस कंडक्टर उनके टिकट काटने की स्टाइल ने एक डायरेक्टर को इतना प्रभावित किया कि उन्हें फिल्मों में मौका दे दिया। सिम्पल, साधारण से दिखने वाले रजनीकांत अपनी स्टाइल, पंक्चुएलिटी, सेंस ऑफ ह्यूमर, सादगी की वजह से फेमस हुए। आज आपको उनकी लाइफ से जुड़ी कुछ बातें बताने जा रहे हैं।

रजनीकांत की एक खासियत यह है कि यदि उनकी कोई फिल्म फ्लॉप हो जाती है, तो वे अपनी जेब से डिस्ट्रीब्यूटर्स को पैसा लैटाते है। इतना ही नहीं उन्होंने अपने 65वें जन्मदिन पर चेन्नई के बाढ़ पीड़ितों के लिए 10 करोड़ रुपए दान में दिए थे।

जब फिल्में फ्लॉप होती हैं तो खुद की जेब से डिस्ट्रीब्यूटर्स को पैसे देते हैं रजनी

रजनीकांत के पास करोड़ों की संपत्ति है, बावजूद इसके वे सिम्पल रहना पसंद करते हैं। वे बड़े से बड़े इवेंट में धोती-कुर्ता ही पहनकर जाना पसंद करते हैं। रजनीकांत धार्मिक व्यक्ति है और अक्सर मंदिर जाया करते हैं। एक बार की बात है वे मंदिर में दर्शन कर निकले और सीढ़ियों पर सुस्ताने के लिए बैठ गए। इतने में एक औरत वहां से निकली और उन्हें भिखारी समझकर पैसे दे दिए। हालांकि, बाद में जब उस औरत ने उन्हें पहचाना तो माफी मांगी।\

जब फिल्में फ्लॉप होती हैं तो खुद की जेब से डिस्ट्रीब्यूटर्स को पैसे देते हैं रजनी

धार्मिक व्यक्ति होने के साथ ही रजनीकांत को शांति और मेडिटेशन भी पसंद है। वे हर फिल्म के बाद हिमालय पर जाना पसंद करते हैं, वो भी अकेले। वहां वे मेडिटेशन करते हैं। कभी-कभी वे बेंगलुरु में अपने पुराने फ्रेंड्स के साथ टाइम बीताने भी जाते हैं.

रजनीकांत का जन्म १२ डिसेंबर १९५० मे बंगळूर मे एक मराठा  हेन्द्रे पाटील (मराठी भाषक) परिवार मे हुआ रजनीकांत का पुरा नाम शिवाजीराव गायकवाड है पिताजि रामोजीराव और मा का नाम जिजाबाई गायकवाड है। रजनीकांत जी ने लता रंगाचारी से २६ फरवरी १९८१, तिरुपति, आंध्र प्रदेश शादी की ,जो इतिराज कॉलेज की एक छतरा थी जिन्हों उनकअ कलेज की पत्रिका के लिए साक्षात्कार किया था।

 

Sharing is caring!