Sharing is caring!

पुराने समय में जिन बातों को लोग नामुमकिन मानते थे, आज साइन्स ने लगभग उन सारी बातों को हमे सच साबित कर दिखया है. आपने आर्टिफिशियल हार्ट को अपने सीने में लगाकर इंसान को ज़िंदा रखने वाली सर्जरी के बारे में तो सुना ही होगा, जो कि अपने आप में किसी चमत्कार से कम नहीं माना जाता है.

जी हां, ये सुनकर भले ही आपके होश उड़ जाए लेकिन ये सच है कि दुनिया में एक ऐसी भी महिला है जिसका दिल उसके सीने में नहीं है और जिसे वो अपने बैग में लेकर घूमती है। और वो महिला है ब्रिटेन की रहने वाली 39 वर्षीय सेल्वा हुसैन, जिन्हे करीब 6 महीने पहले सांस लेने में काफी तकलीफ हो रही थी।उनकी ये तकलीफ इतनी बढ़ गई थी कि उन्हे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाया गया। जांच के बाद डॉक्टर ने उन्हे सीरियस हार्ट फेलियर की दिक्कत बताई, लेकिन तब तक सेल्वा के हालात इतने बिगड़ चुके थे कि उन्हे ज़िंदा रखने के लिए लाइफ सपोर्ट का सहारा लेना पड़ा और साथ ही उनकी सर्जरी भी नहीं की जा सकती थी।ऐसे में डॉक्टर्स ने उन्हे एक ऐसा सिस्टम या फिर यूं कह लें कि एक ऐसा आर्टिफीशियल दिल तैयार कर के दिया जो कि शरीर से बाहर होने के बावजूद बिल्कुल दिल ही तरह ही काम करता है। बता दें कि ये सिस्टम भी बिल्कुल किसी दिल की तरह की खून को पूरे शरीर में पंप करता है।

 

और यही वजह है कि 2 बच्चों की मां साल्वा हर वक्त अपने साथ एक बैग रखती है जिसमें उनका दिल है, जो कि उन्हे ज़िंदा रखे हुए है। उसके अलावा साल्वा के साथ हर वक्त एक और बैक-अप सिस्टम, उनके पति और एक सहायक रहता है, ताकि साल्वा के सिस्टम में कुछ खराबी होने पर तुरंत उसे बदला जा सके।

बता दें कि साल्वा के सिस्टम को महज़ 90 सेकंड के अंदर बदलना होता है ।वैसे फिलहाल साल्वा इस कृत्रिम दिल के सहारे अच्छी खासी जिंदगी जी पा रही हैं .. साल्वा का एक 5 साल का बेटा और एक 18 महीने की बेटी है। गौरतलब है कि साल्वा हुसैन दुनिया की दूसरी ऐसी शख्स हैं जिनके पास ऐसा कृत्रिम दिल है।

Sharing is caring!