Sharing is caring!

फर्स्ट डेट दो ऐसे व्यक्तियों जो पहले से परिचित हो, उनके बीच किसी भी प्रकार की प्रारंभिक बैठक को कह सकते हैं. फर्स्ट डेट के दौरान दो अलग-अलग लिंग के व्यक्ति के बीच पहली मुलाकात को बोला जाता है. डेटिंग का अर्थ भिन्न संस्कृतियों, जीवन शैलियों, धर्म, लिंग और यौन अभिविन्यास के कारणवश भिन्न-भिन्न प्रकार की हो सकती है. कई देशों और संस्कृतियों में डेटिंग प्रक्रिया एक रोमांटिक रिश्ते को आगे बढ़ने के लिए होती है. अगर भविष्य में सब सही रहता है तो दोनों लोग आगे चलकर पति-पत्नि का रूप ले लेते है .

फर्स्ट डेट को यादगार बनाने के लिए

फर्स्ट डेट आपकी ज़िंदगी में होने वाला एक बहुत रोमांचक पल होता है जो आपको अपने रिश्ते की नींव रखने पर एक तरह से पहला कदम होता है. फर्स्ट डेट की यादें और उसकी छाप हर महिला /पुरुष महसूस करना चाहते है. हर व्यक्ति अपनी फर्स्ट डेट को यादगार बनाने के लिए संभव कोशिश करता है. आइये आपकी उस कोशिश में हम आपकी कुछ मदद कर दें.

आपको उस रोमांच को महसूस करते हुए अपनी फर्स्ट डेट के लिए प्लानिंग करना बेहद आवश्यक है.

फर्स्ट डेट पर क्या न करें –

फर्स्ट डेट पर लेट होने का ख़्याल अपने दिमाग से निकाल दे. फर्स्ट डेट पर समय से पहुंचें.

फर्स्ट डेट पर अपने फ़ोन को कम से कम उतनी देर के लिए भूल जाएं जितनी देर आप अपने ख़ास दोस्त के साथ है.

फर्स्ट डेट पर किसी सुनसान पार्क या सार्वजनिक स्थानों पर जाना अच्छा नहीं रहता. सुरक्षा कारणों से भी फर्स्ड डेट पर ऐसी जगहों पर जाना ठीक नहीं होता.

आप फर्स्ट डेट पर कोई भी आपत्तिजनक, चमकीले या तड़क-भड़क कपडे न पहने. ऐसे कपड़े ना सिर्फ दिखने में अजीब लगते है अपितु ये सामने वाले ख़ास दोस्त के लिए शर्मिंदगी का कारण भी बन सकते है.

फर्स्ट डेट पर कभी भी नशा करके न जाए. नशे से आपका इम्प्रेशन बिगड़ सकता है.

फर्स्ट डेट पर अपने ख़ास दोस्त के साथ कोई भी आपत्तिजनक व्यवहार न करें.

फर्स्ट डेट पर अपने ख़ास दोस्त से सेक्स आदि की बातें न करें.

फर्स्ट डेट पर अपने पुराने सम्बन्धों को लेकर बात करने से नए बनने वाले सम्बन्धों में शुरू होने से पहले ही तनाव आ जाता है इसलिए पुराने सम्बन्धों के बारे में बात करने से बचे.

Sharing is caring!