Sharing is caring!

किसी दोस्त की Before-After वाली पिक्चर क्या देखी, अगले ही दिन से फ़िट रहने का ख़्याल आने लगा. Exercise या जिम को अपने ज़िन्दगी का हिस्सा बनाने वाले लोग शुरुआत में Over-Excitement के चक्कर में कुछ ऐसी ग़लतियां कर डालते हैं, जिसका ज़्यादातर ख़ामियाज़ा ही भुगतने को मिलता है.

कुछ ज़्यादा हो महत्वकांक्षी होना

आप ये सोच कर बैठे हैं कि आप एक महीने योग कर लेंगे और फिर से पुराणी लाइफ़स्टाइल अपना लेंगे, तो ये आपकी सबसे बड़ी ग़लती है. कभी भी अपने लिए ऐसे पैमाने न बनाएं, जिन्हें आप पूरा नहीं कर सकते. किसी भी काम को करने के लिए एक प्लान की ज़रूरत है और प्लान को पूरा करने की लगन भी उतनी ही ज़रूरी है.

रिकवरी पर ध्यान न देना

 

ये बात शायद कम ही जिम इंस्ट्रक्टर बताते हैं कि जब आप एक्सरसाइज़ करना शुरू करते हैं, तो आपका शरीर पुरानी मांसपेशियों को तोड़ कर, उन्हें नया बनाता है लेकिन इसके लिए शरीर को रेस्ट और डाइट दोनों की ज़रूरत पड़ती है. ये दोनों न करने की ग़लती अमूमन वो लोग करते हैं, जिन्हें कम समय में वज़न कम करना होता है. इस बात को समझना ज़रूरी है कि रेस्ट न लेना आपके लिए नुकसान का काम करता है.

हेल्दी खाने में भी होती है कैलोरीज़

कई लोग हेल्दी खाने के चक्कर में ये भूल जाते हैं कि हेल्दी खाने में भी कैलोरीज़ होती है. ज़्यादा हेल्दी खाने के चक्कर में कई बार लोग हद से ज़्यादा खा लेते हैं और फिर पूछते हैं कि उनका वज़न कम क्यों नहीं हो रहा.

सिर्फ़ एक्सरसाइज़ करना और कोई बदलाव नहीं

ये ग़लती अमूमन सभी करते हैं और ये ही सबसे बड़ी ग़लती होती है. आपको लगता है कि आप कुछ भी खा लें और आपको कुछ नहीं होगा, तो ये आपकी सबसे बड़ी बेवकूफ़ी है. एक्सरसाइज़ का फ़ायदा तभी होगा, जब आप इस नियम को अपनी डाइट में शामिल करेंगे. खाने-पीने का वज़न पर सबसे ज़्यादा असर पड़ता है. ये आपको देखना है कि आप उसे किस दिशा में ले जाना चाहते हैं.

ढंग के शूज़ न पहनना

बहुत से लोग जिम या एक्सरसाइज़ के Equipment में तो ख़ूब ख़र्च कर देते हैं, लेकिन जूतों पर ध्यान नहीं देते. जूते अच्छे होंगे, आरामदायक होंगे, तो ही आप बेहतर तरीके से एक्सरसाइज़ कर पाएंगे. अच्छे जूते ग्रिप भी अच्छी बनाते हैं, लेकिन ऐसा भी नहीं कि आप सिर्फ़ महंगे जूते ख़रीद कर ख़ुश हो जाएं.

Sharing is caring!